Skip to content
कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या न खाएं? सावधान ! Dr Trust PNG

सावधान ! कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या न खाएं?

उच्च कोलेस्ट्रॉल {High cholesterol} गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है जैसे कि, आठेरोस्क्लेरोसिस (Atherosclerosis), कोरोनरी आर्टरी रोग (Coronary Artery Disease), स्ट्रोक (Stroke), पेरिफेरल आर्टीरियल रोग (Peripheral Arterial Disease), हार्ट अटैक (Heart Attack), उच्च ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure), टाइप 2 डायबीटीज (Type 2 Diabetes), गॉलस्टोन (Gallstones), पैंक्रिएटाइटिस (Pancreatitis), और ज़ैंथोमास (Xanthomas) के जोखिम बढ़ाता है।

कोलेस्ट्रॉल की  के लिए  स्वस्थ जीवनशैली अपनाना, और डॉक्टर की सलाह लेना बहुत महत्वपूर्ण है। यहां हम उन भोजन के बारे में बताएंगे जो आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल में नहीं खाने चाहिए, साथ ही कुछ सुझाव भी देंगे जिन्हें आप अपने खाने में शामिल कर सकते हैं ताकि आप कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित कर सके ।

कोलेस्ट्रॉल का मतलब (What is Cholesterol?)

कोलेस्ट्रॉल एक विशेष प्रकार की वसा है जो हमारे शरीर के लिए आवश्यक है, लेकिन अगर यह अधिक हो जाए तो यह हृदय समस्याओं का कारण बन सकता है। अधिक मात्रा में कोलेस्ट्रॉल हमारी धमनियों को जमा सकता है और इससे हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए, कोलेस्ट्रॉल की स्तरों को नियमित रूप से मॉनिटर करना और नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर क्या न खाएं? Dr Trust  PNG

सही खानपान से उच्च कोलेस्ट्रॉल Control करें

अगर कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है, तो आपको निम्नलिखित आहार विकल्पों से बचना चाहिए:

सावधान !

तेज़ और उच्च वसा {fat} वाले खाद्य पदार्थ:


 ❌ ना खाएं: तेल और उच्च वसा {fat} वाले खाद्य पदार्थों से 'बुरा' कोलेस्ट्रॉल (LDL) बढ़ सकता है, जिससे शरीर में ब्लॉकेज हो सकती है।

 ✅ इसके बजाय खाएं: ऑवन में बने हुए खाद्य पदार्थों में कम तेल होता है, जिससे पोषण मिलता है और वसा {fat} कम होता है।  खाने के लिए हमेशा कुछ स्वस्थ चुनें । 

अधिक तेल वाले दूध उत्पाद:

❌ ना खाएं: मलाईदार दूध और उच्च वसा वाले दूध से बनी चीज़ो से अतिरिक्त सतुर्यता {extra saturation } हो सकती है, जिससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। 

✅इसके बजाय खाएं:  लो फैट या स्किम मिल्क, दही, और पनीर, जो अच्छा पोषण प्रदान करते हैं और कम वसा होता है।

उच्च लाल मांस और अंडे:

 ❌ ना खाएं: उच्च लाल मांस और अंडों से कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है, जिससे दिल की बीमारी का खतरा हो सकता है।

इसके बजाय खाएं: अपने खाने  में  लीन प्रोटीन {lean protein } वाली चीज़ो को शामिल करें, जैसे कि दालें, सोया प्रोडक्ट्स, और फिश।

प्रोसेस्ड (Processed Food) और तैयार किए गए भोजन: 

 ❌ ना खाएं:  जैसे की  ब्रेड, बिस्कुट , पेस्ट्री, पाई, केक, सॉसेज रोल, और इस तरह के अन्य स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ,  इनमें अधिक तेल, शर्करा {sugar}, और रंगीन पदार्थ  { eg. chemicals } हो सकते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकते हैं।

इसके बजाय खाएं: फल, सब्जियां, और कच्चे खाद्य पदार्थ, जो न्यूट्रिएंट्स {nutrients } से भरपूर हैं और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रख सकते हैं।

अधिक शर्करा {sugar}और ब्रेड: 

 ❌ ना खाएं: शर्करायुक्त {sugary} खाने,  जैसे की मिठाईयां,केक,  शरबत, बिस्किट्स,  और नमकीन  से कोलेस्ट्रॉल की समस्या बढ़ सकती है।

इसके बजाय खाएं: नेचुरल शर्करा {sugar} से भरी चीज़े खाएं जैसे कि फल, और आटे की रोटियां या मल्टीग्रेन ब्रेड, जो फाइबर {fiber} और पोषण {nutrition} से भरपूर हैं।



स्वस्थ जीवनशैली अपनाने और डॉक्टर से सलाह लेने से ही हम अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख  सकते हैं। इसलिए, अपने आहार और  खाने में सुधार करे और नियमित चेकअप के लिए अपने डॉक्टर से मिलें। 

इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल और अन्य HEALTH MONITORING DEVICES का उपयोग हमारी सेहत के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इन उपकरणों का सही ढंग से उपयोग करके हम अपनी सेहत सेहत को सुरक्षित रख सकते हैं और खुशहाल जीवन का आनंद उठा सकते हैं। उदाहण के तौर पर: कोलेस्ट्रॉल मीटर आपको अपने कोलेस्ट्रॉल स्तर को मापने में मदद करता है। इससे आप अपने आहार और व्यायाम (exercises) के परिणाम को निगरानी में रख सकते हैं । जबकि स्मार्ट वियरेबल्स जैसे फिटनेस ट्रैकर्स और स्मार्ट वॉचेस आपको नियमित अंतराल से आपकी शारीरिक गतिविधियों का अनुसरण करने में मदद कर सकते हैं। इससे आप अपने व्यायाम और शारीरिक स्वास्थ्य को सुनिश्चित रूप से बनाए रख सकते हैं।

विभिन्न स्वास्थ्य आप्लिकेशन्स जैसे की Dr Trust 360 app आपको आपके आहार, व्यायाम, और शारीरिक स्वास्थ्य की जानकारी प्रदान कर सकते हैं। इस आप्लिकेशन्स के माध्यम से आप अपने कोलेस्ट्रॉल स्तरों की मॉनिटरिंग कर सकते हैं और अपने लक्ष्यों की दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं।

 

 

Next article घुटने में सूजन और दर्द: एक सामान्य समस्या का समाधान